Sun. Jun 16th, 2024

विक्की कौशल, एक ऐसा नाम जो दमदार अभिनय और आकर्षक स्क्रीन प्रेजेंस के लिए जाना जाता है, ने बॉलीवुड में अपनी जगह बनाई है। लेकिन उनका सफ़र पार्क में टहलना आसान नहीं था। यहाँ विक्की कौशल के जीवन की एक झलक दी गई है, जिसमें उनके बचपन, शिक्षा और उस मोड़ को दिखाया गया है जिसने उन्हें सुर्खियों में ला दिया।

विक्की कौशल : बचपन और शिक्षा

1988 में पंजाबी माता-पिता के घर एक गैर-फ़िल्मी पृष्ठभूमि में जन्मे विक्की कौशल का जीवन शिक्षा और परिवार के इर्द-गिर्द घूमता था। उन्होंने मुंबई में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की और बाद में राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की। ​​हालाँकि शिक्षा महत्वपूर्ण थी, लेकिन अभिनय के लिए एक चिंगारी उनके भीतर पहले से ही प्रज्वलित थी।

इंजीनियरिंग से अभिनय तक: एक जीवन बदलने वाला निर्णय

अपनी इंजीनियरिंग की डिग्री के बावजूद, विक्की कौशल का असली जुनून अभिनय में था। उन्होंने किशोर नमित कपूर के अभिनय संस्थान में दाखिला लिया और थिएटर प्रोडक्शन की दुनिया में कदम रखा। यह उनके जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ था। थिएटर ने उनके कौशल को निखारा और अभिनेता बनने के उनके सपने को पोषित किया।

बॉलीवुड में प्रवेश: सफलता की लंबी राह

स्टार किड्स के विपरीत, जिन्हें अवसरों तक आसानी से पहुँच मिलती है,विक्की कौशल की यात्रा दृढ़ता की थी। अपनी पहली फिल्म भूमिका पाने से पहले उन्हें कई अस्वीकृतियों और वर्षों के संघर्ष का सामना करना पड़ा। उनकी लगन और प्रतिभा ने आखिरकार भुगतान किया।

मसान (2015): एक डेब्यू जिसने एक स्टार के आगमन की घोषणा की

वर्ष 2015 विक्की कौशल के करियर में एक महत्वपूर्ण मोड़ था। उनकी पहली फिल्म, “मसान”, एक इंडी डार्लिंग ने आलोचकों की प्रशंसा और अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त की। प्रेम और सामाजिक बाधाओं की जटिलताओं में फंसे एक युवा व्यक्ति के उनके चित्रण ने उनकी असाधारण प्रतिभा को प्रदर्शित किया।

इंडी सक्सेस से मेनस्ट्रीम स्टारडम तक

“मसान” में विक्की कौशल के दमदार अभिनय ने मेनस्ट्रीम बॉलीवुड में उनके लिए दरवाजे खोल दिए। उन्होंने “रमन राघव 2.0” (2016), “संजू” (2018) और “उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक” (2019) जैसी फिल्मों में समीक्षकों द्वारा प्रशंसित अभिनय किया। बाद वाली फिल्म ने उन्हें एक भरोसेमंद एक्शन हीरो के रूप में स्थापित किया।

बहुमुखी प्रतिभा से चिह्नित फिल्मोग्राफी

विक्की कौशल

विक्की कौशल ने लगातार अपनी बहुमुखी प्रतिभा साबित की है। वह “मनमर्जियां” (2018) जैसे गहन ड्रामा और “चंडीगढ़ करे आशिकी” (2022) जैसी हल्की-फुल्की कॉमेडी के बीच सहजता से बदलाव करते हैं। इस विविधता ने भारतीय सिनेमा में सबसे होनहार अभिनेताओं में से एक के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया है।

अभिनय से परे: पुरस्कार और मान्यता

विक्की कौशल की प्रतिभा किसी की नज़र से नहीं छूटी है। उन्हें कई पुरस्कार मिले हैं, जिनमें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार (‘संजू’ के लिए) शामिल हैं।

आगे की ओर देखना: उज्ज्वल भविष्य की प्रतीक्षा है

विक्की कौशल

अपने शिल्प के प्रति समर्पण, विविध भूमिकाओं के साथ प्रयोग करने की उनकी इच्छा और उनके लगातार बढ़ते प्रशंसक अनुसरण के साथ, विक्की कौशल का भविष्य उज्ज्वल है। प्रशंसक उनकी आगामी परियोजनाओं का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, उनकी निरंतर वृद्धि और आकर्षक प्रदर्शनों की उम्मीद कर रहे हैं।

विक्की कौशल की अगली फिल्म “छावा” एक्शन से भरपूर बदलाव का वादा करती है! उन्होंने एक गंभीर भूमिका के लिए अपने सामान्य व्यक्तित्व को त्याग दिया है, जिससे प्रशंसकों को उनके चरित्र के उद्देश्यों के बारे में अनुमान लगाने पर मजबूर होना पड़ा है। ट्विस्ट, टर्न और कच्ची भावनाओं से भरी एक दमदार एक्शन ड्रामा के लिए कमर कस लें। विक्की कौशल को पहले कभी न देखे गए अवतार में देखें क्योंकि वह एक दमदार अभिनय करते हैं। मेघना गुलज़ार द्वारा निर्देशित इस फ़िल्म में रश्मिका मंदाना भी हैं और यह एक ऐतिहासिक व्यक्ति के जीवन पर आधारित है। एक रोमांचक अनुभव के लिए अपने कैलेंडर पर निशान लगाएँ!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *